Hi, How Can We Help You?

Blog

February 13, 2024

Policeman Arrested In Mahadev Betting Case Dismissed महादेव सट्टेबाजी मामले में गिरफ्तार पुलिसकर्मी बर्खास्त, नई दिल्ली न्यूज

Policeman Arrested In Mahadev Betting Case Dismissed महादेव सट्टेबाजी मामले में गिरफ्तार पुलिसकर्मी बर्खास्त, नई दिल्ली न्यूज

इस मामले में तीन सट्टेबाजों को गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने शनिवार देर रात की गई छापेमारी में 70.sixty five लाख रुपये नकद भी बरामद किया. संजीव मोटा कमीशन लेकर लोगों को इनके आईडी और पासवर्ड देता था. संजीव के दुबई से भी तार जुड़े हैं जिसकी जांच चल रही है. दिल्ली पुलिस ने आयकर विभाग को भी इस मामले की जानकारी दे दी गई है. उसके बाद वेस्ट दिल्ली के रघुवीर नगर, ख्याला उत्तम नगर, तिलक नगर में दुकानें बंद हो गई.

जांच पड़ताल में पता चला कि यह लोग अक्सर शौचालय, सुनसान जगह पर जुआ खेलते थे जिससे कि पुलिस इनतक जल्दी से ना पहुंच पाए और यह वहां से भागने का भी रास्ता तैयार रखते है. उन्होंने कहा कि उस पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था. उन्होंने कहा कि पंजाब पुलिस ने पहले भी इसी तरह के एक मामले में उसके खिलाफ मामला दर्ज किया था. द‍िल्‍ली पुल‍िस (Delhi Police) सट्टेबाजी पर अंकुश लगाने की हरसंभव कोश‍िश में जुटी है. द‍िल्‍ली पुल‍िस की ज‍िला टीम लगातार गुप्‍त सूचना के आधार पर सट्टेबाजी के गोरखधंधे में संल‍िप्‍त लोगों की धरपकड़ कर रही है. नॉर्थ ज‍िला के मजनू टीला चौकी इलाके में पुलिस ने चार जुआ खेलने वालों को गिरफ्तार किया है.http://delhi-bookmakers.com

  • नॉर्थ ज‍िला के मजनू टीला चौकी इलाके में पुलिस ने चार जुआ खेलने वालों को गिरफ्तार किया है.
  • बीते साल सट्टेबाजी के 2011 मामले दर्ज किए गए थे.
  • पकड़े गए आरोपियों में हरप्रीत, श्याम, चेतन शर्मा और देवेंद्र है.
  • पुलिस ने इनके पास से 1,73,150 रुपए और ताश की गड्डी बरामद की है.
  • दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने अवैध तरीके से सट्टेबाजी में लिप्त 3502 लोगों को गिरफ्तार किया है.

उन्हें गुप्‍त सूचना म‍िली क‍ि इलाके में जुआ खेला जा रहा है. पुलिस के अनुसार, दो अलग-अलग गगनचुंबी इमारतों- नेपियर टाउन और मुस्कान हाइट्स में स्थित दो फ्लैटों में छापेमारी की गई. गिरफ्तार लोगों की पहचान आकाश गोगा, उनके भाई अजीत गोगा और इंटरजीत सिंह के रूप में हुई है. फिलहाल पुलिस सभी से पूछताछ कर गिरोह में शामिल अन्य लोगों के बारे में पता लगा रही है.

बिज़नेस खबरें

पुलिस को एक 5 स्टार होटल में गिरोह चलाए जाने की जानकारी मिली. जिसके बाद पुलिस ने होटल में छापेमारी कर 9 लोगों को गिरफ्तार कर लिया. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने अवैध तरीके से सट्टेबाजी में लिप्त 3502 लोगों को गिरफ्तार किया है. ये गिरफ्तारी 15 मई तक उपलब्ध डेटा के आधार पर की गई है.

यह गिरोह राजधानी के एक 5 स्टार होटल से सट्टेबाजी का गोरखधंधा चला रहा था. दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) ने सट्टेबाजों पर लगाम लगाने के लिए सख्त निर्देश जारी किए हैं. दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने बताया कि अधिकतर पुलिस स्टेशनों में सट्टेबाजों को पकड़ने के लिए अलग से टीम बनाई गई थी. पकड़ में आए आरोपियों में बुकी कुनाल मिगलानी और सुमिल कालरा भी शामिल हैं. पुलिस ने इनके पास से three लैपटॉप, 10 मोबाइल फोन जब्त किए हैं. पुलिस की नजरों से बचने के लिए यह लोग हर मैच के बाद होटल बदल देते थे.

सट्टेबाजों में दिल्ली

यह लोग मैच की रीयल टाइमिंग और ब्रॉडकास्टिंग टाइमिंग के बीच रहे मामूली फर्क से लाखों रुपये कमा रहे थे. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में बड़े पैमाने पर सट्टेबाजी चल रही है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक आरोपी नेटवर्क के जरिए अपने धंधे को चलाते थे.

दिल्ली खबरें

आरोपी बड़ी तादाद में आईपीएल मैचों पर अवैध तरीके से सट्टेबाजी क रहे थे, जिन्हें दिल्ली पब्लिक गैंमलिंग एक्ट के तरह गिरफ्तार किया गया है. ये सभी आरोपी बीते 2 सालों से एनसीआर में अवैध तरीके से सट्टे का धंधा कर रहे थे. बीते साल सट्टेबाजी के 2011 मामले दर्ज किए गए थे. वहीं साल 2020 में 2414 लोगों पर मामला दर्ज किया गया था.

पकड़े गए आरोपियों में हरप्रीत, श्याम, चेतन शर्मा और देवेंद्र है. पुलिस ने इनके पास से 1,seventy three,150 रुपए और ताश की गड्डी बरामद की है. आजतक से दिल्ली पुलिस ने जो बताया वो हैरान करने वाला था. हमें जानकारी मिली कि पश्चिमी दिल्ली के ख्याला इलाके में पुलिस सट्टेबाजों के ठिकानों पर रेड करने पहुंची थी. लोगों ने जैसे ही उन्हें भागते देखा, लगा कि फिर से हिंसा फैल गई. दिल्ली हिंसा के बाद से पुलिस लगातार लोगों को कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था का आश्वासन दे रही है.

सबसे तेज़ ख़बरों के लिए आजतक ऐप

हालांकि इस अफरा-तफरी के बीच दिल्ली पुलिस के तमाम अफसर तुरंत सड़क पर उतर आए. इस बीच एहतियातन तिलक नगर समेत सात मेट्रो स्टेशन- नांगलोई, सूरजमल स्टेडियम, बदरपुर, तुगलकाबाद, उत्तम नगर पश्चिम और नवादा बंद किए गए, जिसे फिर कुछ देर बाद खोल दिया गया. मुंबई इंडियन्स विजेता टीम घोषित की जा चुकी है, लेकिन दिल्ली में सट्टेबाजों का पकड़े जाना बदस्तूर जारी है. इसी कड़ी में दिल्ली पुलिस ने ऑनलाइन सट्टेबाजी के एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है.

हालांकि रविवार शाम की एक घटना से लगता है कि उनका आश्वासन लोगों के अंदर बैठे डर को अभी तक भगा भी नहीं पाया है. रविवार शाम सात बजे के आसपास दिल्ली के कई इलाकों में हिंसा की अफवाह फैल गई. एहतियातन फौरन दिल्ली मेट्रो (DMRC) ने सात मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए. लोगों के बीच तेजी से खबर फैली कि राजौरी गार्जन, ख्याला समेत कई इलाकों में हिंसा हो रही है. कई लोगों ने गोलियां चलने की भी बात कही, जिसके बाद अचानक ही लोग फिर से दहशत में आ गए. मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैचों पर ऑनलाइन सट्टा लगाने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़ किया है.

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की अपराध शाखा ने एक संगठित सट्टेबाजी (Organized Betting) और अपराधिक गिरोह का सरगना होने के आरोप में 39 वर्षीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. अधिकारियों ने कहा कि पूर्वी उत्तम नगर निवासी ललित वर्मा उर्फ ​​नीटू 2016 से फरार था और दिल्ली पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी पर 50,000 रुपये का इनाम घोषित किया था. पूर्वी दिल्ली के स्पेशल स्टाफ ने दिल्ली के सबसे बड़े सट्टेबाज को गिरफ्तार किया है, उसके पास से 3.5 करोड़ रुपये कैश मिले हैं.

आरोपी ऐप के जरिए एक बड़ा सट्टा रैकेट चला रहा था. आयकर विभाग ने भी इस मामले की जांच शुरू कर दी है. पूर्वी दिल्ली की डीसीपी प्रियंका कश्यप के मुताबिक एक सूचना के बाद 45 साल के आरोपी संजीव राठौर को उसके घर से गिरफ्तार किया गया. संजीव वैसे तो मकैनिकल इंजीनियर है लेकिन वो ऐप और गेम्स वेब पोर्टल के जरिये ऑनलाइन पूरी दुनिया में लोगों को सट्टा खिलवा रहा था. दिल्ली पुलिस के पीआरओ मधुर वर्मा ने बताया, पुलिस को सूचना मिली कि आईपीएल के फाइनल में सट्टेबाजी का एक बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है.

आरोपी अलग-अलग शहर से थे और फोन कॉल के जरिए एक-दूसरे से जुड़े थे. संजीव राठौर दुनिया के किसी भी कोने में बैठे शख्स को फुटबाल, टेनिस, रग्बी जैसे खेलों में सट्टा लगवाता था. लोग आराम से अपने घर में बैठकर बिना किसी खतरे के, बिना कोई फोन कॉल किए सट्टा खेलते थे. आरोपी संजीव सट्टे के लिए बने ऐप जैसे स्काई, आइस, गोल्ड और डायमंड पर सट्टे का रैकेट चला रहा था. यह एप गूगल प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर से डाउनलोड करवाए जाते थे. नॉर्थ ज‍िला डीसीपी सागर सिंह कलसी ने बताया कि मजनू टीला चौकी इलाके में एसआई पंकज ठाकरान की देखरेख में पुलिस कर्मी अजय कुमार पेट्रोलिंग कर रहे थे.